सौर ऊर्जा उत्पादन बढ़ाने के एजेंडा को रेलवे में बड़े पैमाने पर लागू करने की तैयारी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सौर ऊर्जा उत्पादन बढ़ाने के एजेंडा को रेलवे में बड़े पैमाने पर लागू करने की तैयारी हो गई है। इसके तहत न सिर्फ सौर ऊर्जा से ट्रेनें दौड़ाई जाएंगी, बल्कि रेलवे स्टेशन, कारखाने व कार्यायल भी जगमग होंगे। रेल मंत्री सुरेश प्रभु अगले हफ्ते नई सौर ऊर्जा नीति लागू कर सकते हैं।एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि आने वाले समय में बिजली के बजाय सौर ऊर्जा पर निर्भरता बढ़ाने के प्रयास शुरू हो गए हैं। इसके तहत उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र व गुजरात में पीपीपी मोड में नए सौर ऊर्जा संयंत्र लगाने की योजना है। पहले चरण में एक हजार मेगावाट सौर ऊर्जा उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है।

रेल मंत्रालय एनटीपीसी सहित अन्य सरकारी व निजी कंपनियों की मदद से सौर ऊर्जा संयंत्र लगाएगा। रेलवे कंपनियों को परियोजना की कुल लागत पर 15 फीसदी भी सब्सिडी देगी। यानी एक मेगावाट सौर ऊर्जा उत्पादन पर कंपनी को एक करोड़ 20 लाख की सब्सिडी देगी।

सौर ऊर्जा उत्पादन बढ़ाने के एजेंडा को रेलवे में बड़े पैमाने पर लागू करने की तैयारी

2 thoughts on “सौर ऊर्जा उत्पादन बढ़ाने के एजेंडा को रेलवे में बड़े पैमाने पर लागू करने की तैयारी

Leave a Reply

Your email address will not be published.